कारोबार शुरू करने के लिए 43 किलो चांदी और 19 लाख कैश लेकर फरार हुआ था सर्राफ का ड्राइवर

pc

मेरठ : जिस घटना को दिल्ली पुलिस ने दर्ज करने से इंकार कर दिया। उसी घटना से पर्दा उठाते हुए मेरठ पुलिस ने एक आरोपी को सात लाख कैश और 43 किलो चांदी सहित धर दबोचा। हालांकि मुख्य आरोपी अभी पुलिस की पकड़ से दूर है।
बताते चलें कि देहलीगेट थाना क्षेत्र स्थित नील की गली में संजय अग्रवाल की शिवम ज्वैल्र्स के नाम से दुकान है। बीती 26 जुलाई को संजय अपनी स्विफ्ट डिजायर कार से ड्राइवर सुनील उर्फ बिट्टू के साथ दिल्ली गए थे। इसी दौरान चांदनी चैक पर चालक सुनील अपने मालिक संजय को चकमा देकर कार सहित उसमें रखी 43 किलो चांदी की मूर्ति व 19 लाख के कैश के साथ फरार हो गया। बदहवास संजय ने घटना की जानकारी दिल्ली पुलिस को दी तो दिल्ली पुलिस ने मामला दर्ज करने से हाथ खड़े कर दिए। जिसके बाद संजय ने मेरठ के देहलीगेट थाने में आरोपी के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी। एसएसपी राजेश कुमार पांडे और एसपी सिटी रणविजय सिंह ने पत्रकार वार्ता करते हुए मामले का खुलासा किया। उन्होंने बताया कि एसओ देहलीगेट विजय कुमार गुप्ता ने इस मामले में सर्विलांस की मदद लेते हुए कानपुर के गंगागंज मंे दबिश देकर आरोपी सुनील के साले राहुल पुत्र रामबिहारी को गिरफ्तार किया है। आरोपी के कब्जे से सात लाख कैश और 43 किलो चांदी की मूर्ति बरामद हो गई हैं। राहुल ने बताया कि उसका जीजा सुनील सर्राफ को चूना लगाकर कानपुर में अपना खुद का कारोबार शुरू करना चाहता था। बाकी की रकम सुनील के पास है और वह चांदी बेचने के लिए ग्राहक तलाशने में जुटा है। घटना का खुलासा करने वाली पुलिस टीम को एसएसपी ने नकद पुरूस्कार और मेरठ बुलियन एसोसिएशन ने पचास हजार का ईनाम देने की घोषणा की है।

118 Total Views 1 Views Today
  • Add a Comment

    Your email address will not be published. Required fields are marked *