विद्युत तार में उतरे करंट की चपेट में आकर किसान की मौत

After-a-few-days,-was-married,-but-was-bang-in-the-body-with-bust

मेरठ : परतापुर थाना क्षेत्र में ब्रहस्पतिवार की सुबह खेत से चारा लेकर लौट रहे किसान की रास्तें में टूटे पड़े विद्युत तार में उतरे करंट की चपेट में आकर मौत हो गई। 18 दिन बाद युवक की शादी थी। घटना से गुस्साए ग्रामीणों ने विद्युत विभाग के खिलाफ जमकर हंगामा करते हुए किसान की मौत का जिम्मेदार बताया। उन्होंने आरोप लगाया कि कई बार कहने के बावजूद अधिकारियों ने जर्जर तार नहीं बदलवाए, जिसके चलते आज किसान को आज अपनी जान से हाथ धोना पड़ा। उन्होंने दस लाख के मुआवजे और मृतक के परिवार के किसी एक सदस्य को सरकारी नौकरी न दिए जाने तक शव को मौके से उठवाने से इंकार कर दिया। पुलिस ग्रामीणों को समझाने का प्रयास कर रही थी।

सोलाना गांव निवासी अनीस पुत्र बुद्धन की 18 मार्च को हापुड़ क्षेत्र के एक गांव की युवती से निकाह होना तय हुआ था। परिवार के सभी लोग शादी की तैयारियों में जुटे हुए थे। ब्रहस्पतिवार की सुबह अनीस अपने खेत से पशुओं के लिए चारा लेने गया था। बताया जाता है चारे की गड्डी अपने सिर पर रखकर वह वापस लौट रहा था। इसी दौरान नासिर के खेत के निकट 11 हजार वोल्ट की हाईटेंशन लाइन का तार बीच सड़क पर टूटा पड़ा था, जिसमें करंट था। अनीस की नजर तार पर नहीं पड़ी और तार पर पैर पड़ते ही उसके शरीर में बस्ट हो गया। अनीस की मौके पर ही मौत हो गई। स्कूल जा रहे बच्चों ने सड़क पर पड़ा अनीस का शव देखा तो गांव में जाकर घटना की जानकारी दी। जिसके बाद परिजनों में कोहराम मच गया। ग्रामीणों ने बिजलीघर जाकर विद्युत आपूर्ति बंद कराते हुए अनीस के शव को तार से अलग किया।

गुस्साए ग्रामीणों और परिवार वालों ने मौके पर पहुंची पुलिस का विरोध करते हुए शव सौंपने से इंकार कर दिया। रो-रोकर बेहाल परिजनों ने बताया कि मृतक के छह भाई हैं। उन्होंने घटना के लिए विद्युत विभाग के अधिकारियोंं को जिम्मेदार बताते हुए उनके खिलाफ कार्यवाही की मांग की। ग्रामीणो ने आरोप लगाया कि पूरे गांव में जर्जर हो चुके विद्युत तारों को बदलने के लिए वह क्षेत्रीय एसडीओ से लेकर कई अधिकारियों से शिकायत कर चुके हैं, बुधवार को भी शिकायत की गई थी, यदि समय पर सुनवाई हुई होती तो शायद अनीस की जान न जाती। परिजनों ने दस लाख का मुआवजा और परिवार के किसी एक सदस्य को सरकारी नौकरी न दिए जाने तक अनीस का शव पुलिस को सौंपने से इंकार कर दिया। समाचार लिखे जाने तक हंगामा जारी था, वहीं विद्युत विभाग का कोई अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा था।

5545 Total Views 3 Views Today
  • Add a Comment

    Your email address will not be published. Required fields are marked *