करीब बीस अरब में होगा पुल का निर्माण, शासन ने दी स्वीकृति

मेरठ : अब मेरठ से बिजनौर पहुंचने के लिए लोगों को अधिक दूरी का सफर तय करना नहीं पड़ेगा। पिछले कई वर्षाे से समय-समय पर पुल निर्माण के लिए कवायद की जा रही थी। जिसकी मंजूरी अब शासन ने दे दी है। शासन ने पुल निर्माण के लिए एक अरब 19 करोड, 51 लाख 37 हजार रूपये की स्वीकृति दे दी है। इस पुल की लम्बाई 840.40 मीटर होगी। उक्त बातें लोक निर्माण विभाग के एएक्सएन ज्ञान गुप्ता ने बताई। उन्होंने यह भी बताया कि इस पुल निर्माण के बाद करीब 80 किलोमीटर की दूरी कम हो जाएगी। जिससे समय व धन की बचत होगी।

मवाना तहसील और बिजनौर की तहसील चांदपुर को जोडऩे के लिए हेमकुंड के नजदीक चेतावाला गंगा घाट पर पुल के निर्माण के लिए शासन ने स्वीकृति दे दी है। उन्होंने बताया कि हस्तिनापुर से आगे भीमकुंड गांव के पास गंगानदी बहती है, नदी के दूसरी ओर जनपद बिजनौर की चांदपुर तहसील है। इन दोनों मुख्य स्थानों ओर चांदपुर को सड़क मार्ग से जोडऩे के लिए पक्के पुल की मांग समय-समय पर की जा चुकी है। इस स्थान के अप स्ट्रीम में 32 किमी पर मध्य गंगा बेराज सेतु एवं डाउन स्ट्रीम 38 किमी पर बृजघाट गढ़मुक्तेसर सेतु है।

अत: यातायात को करीब 32 किमी 38 किलोमीटर आना-जाना पड़ता है। इस सेतु के निर्माण से हस्तिनापुर से चांदपुर जाने के लिए करीब 80 किलोंमीटर की लम्बाई कम हो जाएगी, साथ ही लोगों का समय भी बचेगा। सेतु के बनने से दोनों जनपदों के बीच रोजगार व अन्य अवसर उपलब्ध होंगे। साथ ही मेरठ के चेतावाला, लतीफपुर, भीकुंड, किशनपुर, मनोहरपुर, खेड़ी, बामनौली, ऊंचा रठौरा, तारापुर, दूधली, बस्तौरा, कंकरखेड़ा, धीमरपुर, चांदपुर आदि गांव के लोगों को आवागमन की सुविधा मिलेगी। इस स्थान पर नदी पर पुल बनाए जाने पर ऐतिहासिक नगरी एवं जैन तीर्थ नगर हस्तिनापुर का विकास हागा। इस सेतु के बन जाने के पश्चात किसानों की खेतों का लाभ, उद्योगपतियों को अपने नए उद्योग लगाने एवं बेरोजगारी को रोजगार मिलेगा तथा क्षेत्र का चहुमुखी विकास होगा।

911 Total Views 2 Views Today
  • Add a Comment

    Your email address will not be published. Required fields are marked *