कार्यालय से बाहर निकलकर कप्तान ने सुनी ठगी के पीड़ितों का व्यथा, सख्त कार्यवाही का आश्वासन

ssp-office

मेरठ : कार्यालय के बाहर नारेबाजी करते फरियादियों को हड़काकर बंद करा देने की चेतावनी दे देना तो किसी भी कप्तान के लिए आसान है। लेकिन आज एसएसपी मंजिल सैनी दहल ने कार्यालय से बाहर निकलकर फरियादियों की व्यथा सुनी तो ठगी के पीड़ितों की आंखे नम हो गईं।
दरअसल, सिविल लाइन क्षेत्र में कार्यालय खोलकर जाग्रति विहार निवासी अभिषेक कुमार और अजीत कुमार ने चिटफंट कंपनी की आड़ में क्षेत्र के सैकड़ो लोगों को करोड़ो रूपये का चूना लगा दिया। कुछ दिन पूर्व दोनों आरोपी कार्यालय और घर पर ताला जड़कर फरार हो गए। दर-दर भटक रहे पीड़ितों का मुकदमा कप्तान के आदेश पर सिविल लाइन थाने में दर्ज हुआ। ब्रहस्पतिवार को दर्जनों पीड़ित एसएसपी मंजिल सैनी दहल से मिलने उनके कार्यालय पहुंचे। कुछ क्षेत्रिय नेताओं के उकसाने पर पीड़ितों ने कप्तान कार्यालय के बाहर नारेबाजी शुरू कर दी। शोर सुनकर एसएसपी मंजिल सैनी दहल कार्यालय से बाहर निकलीं और पीड़ितों से बातचीत की। पीड़ितों ने बताया कि पुलिस ने आरोपियों के कार्यालय को तो सीज कर दिया है, लेकिन कार्यालय में मौजूद कीमती प्रपत्रों को केस प्रापर्टी नहीं बनाया है। जबकि कार्यालय में कई लोगों की पूर्ण हो चुकी एफडीआर तक मौजूद हैं, जिन्हें आरोपियों ने झांसा देकर पीड़ितों से लिया था। कप्तान ने इस मामले में आवश्यक कार्यवाही का आश्वासन दिया है।

112 Total Views 1 Views Today
  • Add a Comment

    Your email address will not be published. Required fields are marked *