आयुक्त की अध्यक्षता में सम्पन्न हुआ मित्र दिवस

comm

मेरठ : आयुक्त मित्र दिवस में चार प्रकरणों की सुनवाई कर कार्यवाही के निर्देश दिये गये। प्रस्तुत प्रकरणों में मायादेवी, निवासी, मोदीपुरम, मेरठ व योगेन्द्र कुमार निवासी जिला बुलन्दशहर के प्रार्थना पत्र पर निस्तारण हेतु कार्यवाही की गयी, ज्वाला प्रसाद, निवासी मेरठ के प्रकरण में उन्हें सचिव, एमडीए के समक्ष उनकी स्वयं की भूमि होने का प्रमाण पत्र देने के लिये कहा गया, हसीन नकवी, मेरठ के प्रकरण में तत्कालीन लेखपाल एवं तत्समय सम्बद्ध ई0आर0के0 के विरूद्ध अनुशासनिक कार्यवाही करने व उपाध्यक्ष एमडीए को निहित स्थान की जांच करने व बिना मानचित्र स्वीकृत कराये कोई निर्माण होता हुआ पाया जाता है तोे सुसंगत प्राविधानों के अन्तर्गत कार्यवाही सुनिश्चित करने के लिये निर्देशित किया गया।

जनता की समस्याओं के त्वरित गुणवत्तापरक निस्तारण के लिये आयुक्त द्वारा प्रारम्भ किये गये आयुक्त मित्र दिवस का आयोजन आयुक्त कार्यालय में आयुक्त डा0 प्रभात कुमार की अध्यक्षता में सम्पन्न हुआ। आयुक्त मित्र दिवस में मायादेवी पत्नी स्व0 श्री वीर सिंह, निवासी डी0-65, पल्लवपुरम, फेस-1, मोदीपुरम, मेरठ द्वारा प्रस्तुत प्रार्थना पत्र के आधार पर प्रकरण के निस्तारण हेतु कार्यवाही की गयी। प्रकरण में उपजिलाधिकारी सरधना से प्राप्त आख्या का अवलोकन किया गया तथा शिकायतकर्ता के तर्कों को सुना गया। प्रकरण में किसी प्रकार की कार्यवाही सम्भव न होने के कारण प्रकरण निक्षेपित किया गया।

मित्र दिवस में ज्वाला प्रसाद, निवासी प्रगतिनगर मेरठ द्वारा प्रस्तुत प्रार्थना पत्र के आधार पर प्राधिकरण द्वारा उपलब्ध करायी गयी आख्या के अवलोकन के उपरान्त शिकायतकर्ता को निर्देशित किया गया कि वह सचिव, मेरठ विकास प्राधिकरण के समक्ष इस आशय का शपथ पत्र दें कि जिस भूमि पर मानचित्र स्वीकृत कराना चाहते है, उक्त भूमि उनकी अपनी है। यदि उक्त भूमि के सम्बन्ध में कोई आपत्ति प्राप्त होती है तो उनका मानचित्र स्वतः ही निरस्त माना जायेगा।

मित्र दिवस में योगेन्द्र कुमार पुत्र स्व0 श्री मोहर सिंह, निवासी ग्राम मानकपुर, जिला बुलन्दशहर द्वारा प्रस्तुत प्रार्थना मे उपजिलाधिकारी हापुड़ द्वारा उपलब्ध करायी गयी आख्या में अधिशासी अधिकारी, नगर पालिका परिषद की आख्या के आधार पर अवगत कराया गया है कि भवन पर गृृहकर व जलकर का निर्धारण दिनांक 01-10-2002 से किया गया तथा तभी से वर्षवार भवन स्वामी द्वारा गृहकर व जलकर जमा किया जा रहा है। प्रकरण में नियमानुसार जलकर एवं भवन कर की अदायगी की जा रही है, जिस कारण प्रकरण में किसी प्रकार की कार्यवाही की आवश्यकता नहीं है। अतः प्रकरण निक्षेपित किया जाता है।

आयुक्त मित्र दिवस में हसीन नकवी, निवासी ग्राम अब्दुल्लापुर, मेरठ द्वारा प्रस्तुत प्रार्थना पत्र शिकायतकर्ता द्वारा बताया गया कि वक्फ सैय्यद मौहम्मद की सम्पत्ति वक्फ डीड सब रजिस्ट्रार मेरठ के यहाँ दिनांक 26-04-1918 को पंजीकृत करायी गयी थी, जिसका इन्द्राज राजस्व अभिलेखों 1343 फसली व 1359 फसली में मौजूद है। वक्फ सम्पत्ति की जांच के लिये 1343 फसली राजस्व अभिलेख का मिलान वक्फ डीड में दर्ज महाल व खेवटों से कराया जाये, ताकि वक्फ सम्पत्ति का सही पता चल सके।

प्रकरण में उपजिलाधिकारी मेरठ द्वारा उपलब्ध करायी गयी जांच आख्या में अवगत कराया गया है कि प्रश्नगत प्रकरण दो निजी पक्षों के मध्य है, जिसके सम्बन्ध में सिविल न्यायालय द्वारा स्थिति स्पष्ट की जा चुकी है तथा मा0 उच्च न्यायालय द्वारा रिट याचिका सं0-50023/2015, जितेन्द्र बनाम राज्य में पारित आदेश दिनांक 04-09-2015 एवं शासनादेश दिनांक 16-09-2015 के द्वारा पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारियों को दो निजी पक्षों की अचल सम्पत्ति के विवादों मंे प्रशासनिक हस्तक्षेप से निषेधित किया गया है।

प्रकरण की सुनवाई करते हुए आयुक्त डा0 प्रभात कुमार ने जिलाधिकारी मेरठ को सम्पूर्ण अभिलेखों के परीक्षणोंपरान्त वास्तविक वस्तुस्थिति के सम्बन्ध में सुस्पष्ट आख्या अभिलेखों की छायाप्रति सहित वक्फ बोर्ड को प्रेषित करने तथा गुरूमेहर, तत्कालीन लेखपाल एवं श्री हिमांशु, तत्समय सम्बद्ध ई0आर0के0 जो कि बी0एस0ए0 कार्यालय से है, के विरूद्ध अनुशासनिक कार्यवाही करने तथा प्रकरण में उपजिलाधिकारी मेरठ की आख्या दिनांक 16-02-2016 में उल्लिखित अन्य व्यक्तियों के विरूद्ध भी अनुशासनिक कार्यवाही करायी जाये तथा प्रथम सूचना रिपोर्ट भी दर्ज करायी जाये।

प्रकरण की सुनवाई करते हुए आयुक्त डा0 प्रभात कुमार ने उपाध्यक्ष, विकास प्राधिकरण मेरठ प्रकरण में निहित स्थल की जांच कराने तथा यदि जांच में स्थल पर बिना मानचित्र स्वीकृत कराये कोई निर्माण होता हुआ पाया जाता है तोे उसे तत्काल रोका जाये एवं पूर्व में बिना मानचित्र स्वीकृत कराये निर्मित निर्माण के विरूद्ध उ0प्र0, आवास एवं शहरी विकास नियोजन अधिनियम के सुसंगत प्राविधानों के अन्तर्गत कार्यवाही सुनिश्चित करायी जाये।

इस अवसर पर सचिव, विकास प्राधिकरण मेरठ राजकुमार, अपर जिलाधिकारी (प्रशासन), जिला मेरठ एस0पी0 पटेल, उपजिलाधिकारी (सदर), जिला मेरठ सुश्री निशा अनन्त, उपजिलाधिकारी (सदर), हापुड अजय कुमार, उपनिदेशक, पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग, जिला मेरठ एम0के0 कर्णवाल, तहसीलदार, मेरठ विकस प्राधिकरण करनवीर सिंह, अधिशासी अधिकारी, नगर पालिका परिषद, हापुड़़ जे0के0 आनन्द, शिकायतकर्ता ज्वाला प्रसाद, योगेन्द्र कुमार, हसीन नकवी, शरद गुप्ता आदि उपस्थित रहे।

534 Total Views 2 Views Today
  • Add a Comment

    Your email address will not be published. Required fields are marked *