गूगल की सर्टिफाइड ट्रेनर ने छात्र-छात्राओं को बताया ‘कैसे करें मिथ्या समाचार का सत्यापन’

How-to-verify-false-news

मेरठ : बदलते दौर के साथ साथ समाचार और संचार के साधन भी काफी उन्नत हो गए हैं। लेकिन इस उन्नति का नकारात्मक पहलू यह भी है कि आज पूरे देश में मिथ्या और तथ्यहीन समाचारों की भरमार है। दुखद पहलू यह है कि देश की युवा पीढ़ी भी बिना इन समाचारों की सत्यता को करके सोशल मीडिया पर आए मैसेज वायरल करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है। यह बात बृहस्पतिवार को चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय के पत्रकारिता विभाग में आयोजित कार्यक्रम में गूगल की सर्टिफाइड ट्रेनर पारुल जैन ने कही। दरअसल विश्वविद्यालय में पत्रकारिता विभाग के छात्र छात्राओं के लिए 4 घंटे की एक कार्यशाला का आयोजन किया गया था। मुख्य अतिथि पारुल जैन ने छात्र-छात्राओं को बताया कि इस प्रकार के वीडियो को शेयर करने से पहले किस तरह इसकी सत्यता को परखा जाए। साथ ही सलाह देते हुए कहा कि युवा पीढ़ी भावावेश में आकर सोशल मीडिया पर वायरल हुई कोई भी पोस्ट बिना सत्यता को जांचे परखे शेयर ना करें।

113 Total Views 8 Views Today
  • Add a Comment

    Your email address will not be published. Required fields are marked *