टीचर को घर बुलाकर बोला संचालक ‘घूमने चलो मेरे साथ’ और चूम लिया मुंह…

The-amount-of-borrowing-sought-to-set-fire-to-the-showroom

मेरठ : शहर के प्रतिष्ठित मेरठ पब्लिक स्कूल के संचालक ताराचंद शास्त्री पर स्कूल की पूर्व शिक्षिका ने दुष्कर्म के प्रयास का सनसनीखेज आरोप लगाया है। आरोप है कि नाजायज मांग न मानने पर पहले संचालक द्वारा उसे स्कूल से निकाल दिया गया, और अब संचालक की शह पर कुछ बच्चों द्वारा उस पर फीस में हेराफेरी का आरोप लगाते हुए सदर थाने में तहरीर दिला दी गई है। एसएसपी ने सदर थाने को इस मामले में जांच के बाद कार्यवाही के आदेश दिए हैं।

बीआई लाइन निवासी पीड़िता के पिता मर्चेंट नेवी के रिटायर अधिकारी हैं। पीड़िता के अनुसार वर्ष 2015 अक्टूबर माह में वह वेस्ट एंड रोड स्थित मेरठ पब्लिक स्कूल में शिक्षिका के पद पर नियुक्त की गई थी। आरोप है कि स्कूल प्रबंधन ने उसकी नियुक्ति के समय उसे कोई ज्वाइनिंग लेटर भी नहीं दिया। वह कक्षा दस के छात्रो को एसएसटी पढ़ाती थीं। पीड़िता के अनुसार बीती 17 जनवरी को स्कूल संचालक ताराचंद शास्त्री ने स्कूल की सुपरवाइजर सविता ओसवाल के साथ उसे अपने घर बुलाया। नाश्ता करने के बाद सविता उसे वहीं छोड़कर चली गई। आरोप है कि इसके बाद ताराचंद शास्त्री और उनके एक अज्ञात साथी ने उसके साथ दुष्कर्म का प्रयास किया। उसके शोर मचाने पर आरोपियों ने उसे धमकी दी कि यदि उसने इस घटना के विषय में किसी को कुछ बताया तो वह उसका जीवन बर्बाद कर देंगे। पीड़िता के अनुसार इसके बाद ताराचंद शास्त्री लगातार उस पर अपने साथ लखनऊ या अन्य किसी शहर में घूमने चलने का दबाव बनाते रहे। इसके बावजूद जब उसने स्कूल संचालक की नाजायज मांग नहीं मानी तो बीती 22 फरवरी को बिना वेतन दिए उसे कोई कारण बताए बिना नौकरी से निकाल दिया गया।

इस मामले की रिपोर्ट लिखवाने वह सदर थाने पहुंची तो स्कूल संचालक के प्रभावशाली होने के कारण थाने में भी उसकी कोई सुनवाई नहीं हुई। उसने आरोप लगाया कि अब उस पर दबाव बनाने के लिए स्कूल प्रबंधन ने कुछ बच्चों की फीस में हेरफेर करते हुए उस पर फीस हड़पने का आरोप लगा दिया है। इस मामले में बच्चों को प्रभाव में लेते हुए सदर थाने में उसके खिलाफ तहरीर भी दिला दी है। शिक्षिका के अनुसार स्कूल की फीस बैंक में जमा होती है, जिसमें किसी प्रकार की हेरफेर संभव नहीं है। वैसे भी उनके पास कभी फीस का चार्ज रहा ही नहीं, ऐसे में वह कैसे फीस में हेरफेर कर सकती हैं। उसने इस मामले मे स्कूल संचालक ताराचंद शास्त्री, सुपरवाइजर सविता ओसवाल और अन्य के खिलाफ कार्यवाही की मांग की है। एसएसपी ने सदर पुलिस को जांच के बाद कार्यवाही के आदेश दिए हैं। इस विषय में स्कूल संचालक ताराचंद शास्त्री का पक्ष जानने के लिए उनके मोबाइल पर संपर्क किया गया, तो उन्होंने कॉल रिसीव नहीं की। मोबाइल पर मैसेज छोड़े जाने के बावजूद उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। वहीं इंस्पेक्टर सदर पंकज पंत ने पूरे प्रकरण में किसी प्रकार की जानकारी से इंकार किया है।

5266 Total Views 1 Views Today
  • Add a Comment

    Your email address will not be published. Required fields are marked *