250 रूपये उधारी को लेकर साथी बने हैवान। मेरठ शहर के जागृति विहार में आफिस जाते वक्त नापतौल विभाग के कर्मचारी को उसी के साथियों ने सरेराह रोककर बेरहमी से पीटा कि उसकी आंख की रोशनी चली गई। हैवानियत की यह वीडियो वायरल हो गई है।

250 रूपये उधारी को लेकर साथी बने हैवान। मेरठ शहर के जागृति विहार में आफिस जाते वक्त नापतौल विभाग के कर्मचारी को उसी के साथियों ने सरेराह रोककर बेरहमी से पीटा कि उसकी आंख की रोशनी चली गई। हैवानियत की यह वीडियो वायरल हो गई है।

चंद रूपयों के लिए अपने ही साथी खून के प्यासे क्यों हो गए। कुछ रूपयों की उधारी का विवाद इस तरह गहराया कि कुछ साथियों ने ही अपने दोस्त को पकडकर सरेराह बेरहमी से पीटना शुरू कर दिया। यह घटना इस समाज के लिए कलंकित करने वाली है। सरेराह पीट रहे एक युवक को राहगीरों ने बचाने के लिए कोई कदम नहीं उठाया। बेरहमी से पीट-पीटकर अपने साथी को अधमरी हालत में छोडकर फरार हो जाने के बाद पुलिस की कार्यशैली घाव पर नमक छिडकने वाली थी। घटना की वीडियो वायरल होकर लोगों के बीच चर्चा का विषय बन गई। पुलिस की लापरवाही का आलम इस कदर रहा कि पीडित स्वयं ही कार्यवाही के लिए थाने पहुंचा, जब जाकर पुलिस की नींद टूटी। यह पूरा वाकया मेरठ के जागृति विहार इलाके का है।

इस तरह हुई घटना -
जागृति विहार निवासी संदीप पुत्र राजेन्द्र सिंह नापतौल विभाग में संविदा कर्मचारी है। रविवार सुबह वह जैसे ही आफिस के लिए निकला तभी आदर्श विवाह मंडप के पास कुछ युवकों ने उसे एकाएक घेर लिया और कुछ समझने से पहले ही बेरहमी से पीटना शुरू कर दिया। युवक को लात घूंसों से पीटने के अलावा हमलावरों ने ईंट से भी प्रहार किया। काफी देर तक संदीप पर लात घूंसों की बौछार होती रही। सरेआम हुई इस वारदात से पुलिस के दावे पानी मांग रहे हैं।

250 रूपयों को लेकर हुआ था विवाद –
दरअसल, संदीप के डेविड पर एक हजार रूपये बकाया थे। जबकि संदीप के छोटे भाई रोहित पर डेविड के 250 रूपये बकाया थे। डेविड संदीप के पैसे नहीं दे रहा था जबकि रोहित से 250 रूपये मांगता था। संदीप ने कहा कि 250 रूपये काटकर मेरे 750 रूपये दे दो । इसी बात को लेकर संदीप और डेविड मे विवाद चल रहा था।

आंख की रोशनी खो गया संदीप-
इलाके के एक निजी अस्पताल में भर्ती संदीप की हालत गंभीर बनी हुई है। डाक्टरों के अनुसार, संदीप की एक आंख की रोशनी चली गई है। संदीप के सिर पर ईंट पत्थर से हमला हुआ है, जिससे उसके सिर में गंभीर चोटें आई हैं।

सीसीटीवी फुटेज लेकर थाने पहुंचा पीडित-
इतना सब कुछ होने के बावजूद मेडिकल पुलिस की नींद नहीं टूटी। आरोपी सामने है। खुलेआम कानून की धज्जियां उडाई गई। फिर भी पुलिस रिपोर्ट दर्ज करने के लिए क्यों कतरा रही थी। पीडित के स्वयं सीसीटीवी फुटेज लेकर थाने पहुंचने पर ही पुलिस की नींद टूटी और कार्यवाही करते हुए प्राथमिकी दर्ज कर ली।

बीच शहर में हैवानियत का नंगानाच-
सरेआम हुई इस हैवानियत से पुलिस गश्त की पोल तो खुली लेकिन साथ-साथ संवेदनहीन होते जा रहे इस समाज के लिए बडा सवाल सामने आ खडा हुआ है। हमलावरों की पिटाई से घायल सडक पर पडे संदीप को कुछ देर बाद स्थानीय राहगीरों की सहायता से अस्पताल ले जाया गया। चोटें इतनी गंभीर है कि अभी शायद संदीप को सामान्य होने में काफी समय लग जाए।

4717 Total Views 3 Views Today
  • Add a Comment

    Your email address will not be published. Required fields are marked *