कार्य के प्रति लापरवाही व उदासीनता अक्षम्य : आयुक्त

prabhaat

मेरठ : कार्यालय से अनाधिकृत रुप से दो साल से अधिक समय से अनुपस्थित रहने, शासकीय सेवा की सम्पूर्ण निष्ठा व सम्पर्ण के प्रतिकूल पाये जाने तथा सरकारी सेवक आचरण नियमावली के सर्वथा उल्लघंन का दोशी पाये जाने के कारण कलेक्ट्रेट मेरठ के आशुलिपिक अभिषेक चौहान जो कि आयुक्त कार्यालय मेरठ से सम्बद्व थे को आयुक्त डा0 प्रभात कुमार ने सम्मयक विचारोपंरान्त उनकी सेवायें तत्काल प्रभाव से समाप्त करते हुए सेवा समाप्ति संबधी कार्यालय आदेष को अभिशेक चौहान को प्राप्त कराकर समुचित कार्यवाही करने के निर्देष जिला प्रषासन को दिए है। इसी क्रम में अपर जिलाधिकारी प्रषासन मेरठ ने तहसीलदार मेरठ को पत्र प्रेशित कर आदेष को तामील कराने के निर्देष दिए है । आयुक्त ने कहा कार्य के प्रति लापरवाही व उदासीनता अक्षम्य होगी ।

आयुक्त डा0प्रभात कुमार ने बताया कि अभिशेक चैहान आषुलिपिक कलेक्टेªट मेरठ सम्बद्व आयुक्त कार्यालय, मेरठ मण्डल, मेरठ दिनांक 26-08-2015 से 23-11-2015 तक अर्जित अवकाष लेकर गए थे उसके बाद अवकाष अवधि पूर्ण होने पर वापस कार्य पर नही उपस्थित हुए है और अवकाष बढाने के विशय में डाक द्वारा व आॅनलाइन सूचना देते रहे । उन्होंने बताया कि कार्यालय से अनाधिकृृत रुप से 24 नवम्बर 2015 से अनुपस्थित रहने के कारण अभिशेक चैहान का यह कृृत्य उ0प्र0 सरकारी सेवक आचरण नियमावली 1956 के नियम 3 के सर्वथा उल्लघंन का दोश पूर्ण स्थापित होता है,जो षासकीय सेवा के बारे में उनकी सम्पूर्ण निश्ठा एवं सम्पर्ण के प्रतिकूल है ,जिसके कारण सम्यक विचारोपंरात उनकी सेवायें तत्काल प्रभाव से समाप्त करते हुए उन्हे सेवा से पदच्युत किया जाता है ।

इस संबंध में अपर जिलाधिकारी प्रषासन मेरठ ने तहसीलदार मेरठ को निर्देषित किया कि आयुक्त द्वारा कार्यालय आदेष को अभिशेक चैहान को तामील कराकर सदिनांक हस्ताक्षर लेकर अपनी सुस्पश्ट एवं तथ्यात्मक आख्या उपलब्ध करायें ।

65 Total Views 2 Views Today
  • Add a Comment

    Your email address will not be published. Required fields are marked *