गौहत्या करने वालों पर करें एनएसए की कार्यवाही : डीएम

dm-02

मेरठ : जनपद की कानून व्यवस्था की समीक्षा करते हुए आज जिलाधिकारी समीर वर्मा ने पुलिस, प्रशासन एवं अभियोजन के अधिकारियों को निर्देश दिये कि वह जनपद में शान्ति व्यवस्था कायम रखने और कानून का राज स्थापित करने को प्रथम प्राथमिकता दें। उन्हांेने कहा कि अधिकारी यह सुनिश्चित करें जनपद में कोई भी अपराधी सर न उठा सके और क्षेत्र में भयमुक्त वातावरण उत्पन्न हो सके। उन्होंने अधिकारियों को सख्त निर्देश देते हुए कहा कि शासन के निर्देश है प्रदेश में गौहत्या व विद्युत सेवा को प्रभावित करने वालों को किसी भी दशा में बख्श न जाए।

जिलाधिकारी समीर वर्मा ने उक्त निर्देश पुलिस लाईन स्थित सभागार में जनपद की कानून व्यवस्था की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए दियें। बैठक में जिलाधिकारी ने अधिकारियों से कहा कि अपने अधीनस्थ क्षेत्रों में समय समय पर दौरा करें और उस क्षेत्र की हर गतिविधि से अवगत होकर अवांछनीय तत्वों पर पैनी नजर रखें। उन्होंने कहा कि वह अपने सूचना तंत्रों को सक्रिय रखें ताकि हर छोटी से छोटी घटना की जानकारी समय से हो सके तथा उस पर प्रभावी कार्यवाही अमल में लायी जा सके। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि यदि किसी जघन्य अपराध में कोई शस्त्र लाईसेंस धारक सल्पित है तो उसके शस्त्र लाईसेंस के निलम्बन की कार्यवाही प्रस्तावित करें।

जिलाधिकारी ने बैठक में अधिकारियों को सख्त निर्देश देतेे हुए कहा कि गौहत्या एक जघन्य अपराध है इसलिए अधिकारी जनपद में गौहत्या करने वालों को किसी भी दशा में न बख्शे, बल्कि इस कार्य में संल्पित अभियुक्तों के विरूद्ध एनएसए जैसी धाराओं में प्रभावी कार्यवाही करें। उन्हांेंने कहा कि प्रदेश में बिना किसी रूकावट के विद्युत आपूर्ति को सुनिश्चित कराना शासन की प्राथमिकता है इसलिए अधिकारी यह भी देखें के विद्युत आवश्यक सेवा को यदि कोई व्यक्ति प्रभावित करता है तो उसके विरूद्ध दण्डात्मक कार्यवाही करते हुए एनएसए में निरूद्ध करें। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि जघन्य अपराधों एवं अवांछनीय तत्वों पर एनएसए की कार्यवाही करने हेतु अच्छी तैयारी करने के बाद ही एनएसए को प्रस्तावित करें ताकि अपराधी को राहत न मिल सके।

जिलाधिकारी ने अधिकारियों से कहा कि वह जनपद में अवैध शराब की ब्रिकी न होने दे यदि कोई ऐसी सूचना प्राप्त होती है तो सम्बंधित की धरपकड़ी करते हुए एफआईआर दर्ज कर जेल भेंजे। उन्होंने कहा कि शासन के निर्देश है कि जनपद में अवैध कब्जाधारियों व भूमाफियांओं को संरक्षण न मिल सके यदि कोई अधिकारी या कर्मचारी ऐसा करता है तो उसके विरूद्ध भी दण्डात्मक कार्यवाही करें। उन्होंने कहा कि भूमाफियाओं के विरूद्ध 14 ए की प्रभावी करते हुए उनके ऊपर गैंगस्टर लगाकर उनकी सम्पत्तियों की कुर्की करायें। उन्होंने अभियोजन अधिकारियों से कहा कि वह कुख्यात अपराधियों के केसों में गुणवत्तायुक्त पैरवी करें ताकि वह जेल से बाहर न आ सके।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मंजिल सैनी ने थानेवार समीक्षा करते हुए थानाध्यक्षों को निर्देश दिये कि वह पूर्ण सर्तकता के साथ अपने क्षेत्रों में सक्रिय रहकर कार्य करें और यदि कोई असामाजिक तत्व क्षेत्र का माहौल खराब करता है तो उसके विरूद्ध एफआईआर दर्ज कर जेल भेजें। उन्होंने पुलिस अधिकारियों से कहा कि वह जनपद व्यस्तम तथा मेन बाजारों में पुलिस की तैनाती करें ताकी महिलाएं एव आमनागरिक बिना किसी भय के बाजारों में निकल सके। उन्होंने पुलिस सीओ एवं थानाध्यक्षों को सख्त हिदायत देते हुए कहा कि वह अपने क्षेंत्र की घटनओं का खुलासा अच्छे से जांच कर समय से करें, यदि किसी भी घटना की जांच में कमी रहती है तो सम्बधित थानाध्यक्ष व सीओ के विरूद्ध कार्यवाही की जाएगी।

इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी प्रशासन सत्य प्रकाश पटेल, नगर मुकेश चन्द्र, एसपी सिटी मान सिह चैहान, देहात राजेश कुमार, यातायात संजीव वाजपेयी, क्राइम शिव प्रसाद, एएसपी अकित मित्तल, एसडीएम सदर संतोष बहादुर सिंह, मवाना अंकुर श्रीवास्तव, सरधना ज्ञान प्रकाश यादव, एसीएम अरविन्द कुमार सिह, डीएसपीएलआई वी0के0 सिंह, डीजीसी फौजदारी अनिल तोमर, जेडीसी, एसपीओ, पीओ, एडीजीसी सहित सीओ, थानाध्यक्ष सम्बधित अधिकारी उपस्थित रहे।

108 Total Views 1 Views Today
  • Add a Comment

    Your email address will not be published. Required fields are marked *