आयुक्त ने किया पीसीपीएनडीटी पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन

Organizing-a-one-day-workshop

मेरठ : पीसीपीएनडीटी अधिनियम के जनपदीय सलाहकार समिति के सदस्यों हेतु एक दिवसीय क्षेत्रीय अभिमुखीकरण कार्यशाला का आयोजन मैडिकल कालेज स्थित क्षेत्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण प्रशिक्षण केन्द्र में हुआ। कार्यक्रम का शुभारम्भ आयुक्त आलोक सिन्हा ने दीप प्रज्जवलन व मां सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर किया। इस अवसर पर मेरठ सहारनपुर एवं मुरादाबाद मण्डल के सबंधित अधिकारी उपस्थित रहे तथा भ्रूण हत्या रोकने व जन जागरूकता अभियान चलाने पर जोर दिया गया। इस अवसर पर पायल न देना मुझे, जन्म लेने दों।। एक बेटे के लिए कई मासूम बच्चियो की भ्रूण में हत्या करना उचित नहीं।। मारते रहे मुझे अगर तो मां कहां से पाओंगे।। धरती पर अगर रहे न हम, तो पुरूष कहां से पाओंगे।। मेरी बहनों को मारोंगे तो सन्तोष नहीं तुम पाओंगे।। आदि मार्मिक संकल्प व कथन वक्ताओं द्वारा रखे गये। कार्यशाला की अध्यक्षता करते हुए आयुक्त आलोक सिन्हा ने कहा कि मेरठ जोन आर्थिक रूप से सम्पन्न है व तरक्की के पथ पर है। वहीं दूसरी ओर यहां पर लिंगानुपात घट रहा हैं। अगर हमें 21वी सदी का भारत बनाना है ओर विकसित देशों की श्रेणी में शामिल होना है तो सोच में परिवर्तन करना होगा।

उन्होंने कहा कि युवतिया व महिलाए आज के युग में किसी से पीछे नहीं है तथा प्रत्येक क्षेत्र में नाम कमा रही है। आयुक्त ने घटते हुए लिंगानुपात पर अपनी चिन्ता व्यक्त करते हुए कहा कि एएनएम, आगनबाड़ी कार्यकत्रियों एवं आशाओं के माध्यम से जन-जन में जागरूकता अभियान चलाकर आमजन को समझायें कि लड़िकयां किसी भी स्तर पर लड़कों से कम नहीं हैं। आयुक्त ने कहा कि यह एक बड़ी विडंम्बना है कि बाहर के जनपदों एवं राज्यों से टीम आकर मेरठ जोन के अल्ट्रासाउण्ड सेन्टरों पर छापेमारी की कार्यवाही कर दोषियों के विरूद्ध कार्यवाही करती और यहां की टीम उतना परिणाम नहीं दे पा रही है। यह सब बदलना होगा। आयुक्त ने सूचना तंत्र बढाकर अल्ट्रासाउण्ड सेन्टरों पर नजर रखने, औचक निरीक्षण करने तथा डमी व्यक्ति भेजकर निरीक्षण करवाने के लिए कहा तथा दोषियों के विरूद्ध सख्त से सख्त कार्यवाही करने के लिए कहा ताकि समाज में एक सकारात्मक सन्देश जायें।

289 Total Views 2 Views Today
  • Add a Comment

    Your email address will not be published. Required fields are marked *