अंग्रेजों की जीत का जश्न मनाने पर भड़की हिंसा, एक की मौत, 25 से अधिक गाड़ियां जला दी गईं

index

महाराष्ट्र के पुणे में अंग्रेजों की जीत का जश्न मनाने पर हिंसा भड़क उठी। हिंसा में एक की मौत हो गई है। जबकि 25 से अधिक गाड़ियां जला दी गईं और 50 से ज्यादा गाड़ियों में तोड़-फोड़ की गई। भीमा कोरेगांव में दलित संगठनों ने पेशवा बाजीराव द्वितीय की सेना पर अंग्रेजों की जीत का शौर्य दिवस मनाया था। दरअशल ये शौर्य दिवस इसलिए मनाया गया था, क्योंकि 1 जनवरी 1818 में कोरेगांव भीमा की लड़ाई में पेशवा बाजीराव द्वितीय पर अंग्रेजों ने जीत दर्ज की थी। इस दिवस में कुछ संख्या में दलित भी शामिल थे। इसी बात को लेकर कई गांव के लोगों और दलितों में संघर्ष हुआ, जिसमें एक की मौत हो गई। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने लोगों से अपील की है कि वह शांति बनाए रखें और अफवाहों पर ध्यान न दें। सीएम फड़णवीस ने बताया है कोरेगांव हिंसा की न्यायिक जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दी जाएगी। साथ ही युवाओं की मौत के मामले में सीआईडी जांच होगी। राज्य सरकार ने मृतकों के परिवार को 10 लाख का मुआवजा देने का एलान किया है।

78 Total Views 2 Views Today
  • Add a Comment

    Your email address will not be published. Required fields are marked *